भारत में तेजी से बढ़ती आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस इंडस्ट्री का विश्लेषण!!

हम एक ऐसी दुनिया में रहते हैं, जहां बुद्धिमान कंप्यूटर या मशीनें हमारी भाषा और वस्तुओं को पहचानती हैं और उनके साथ बातचीत करती हैं। यह इंसानों की तरह ही कोई स्ट्रेटेजी बना सकता है और समस्याओं का सलूशन भी कर सकता है। स्मार्टफोन, बैंकिंग सिस्टम और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म हमारे बेहेवियर पैटर्न का विश्लेषण करने में सक्षम हैं और रोजमर्रा के जीवन को आसान और सरल बनाने में मदद करते हैं। आज हम सेल्फ-ड्राइविंग या ऑटोनॉमस कारें आखिरकार एक वास्तविकता में देख ही रहे हैं।

इस लेख में हम एक ऐसे उद्योग के बारे जानकारी जानेंगे, जो भारत की बढ़ती अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है- कृत्रिम बुद्धिमत्ता या आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (artificial intelligence) इंडस्ट्री! और हम इस क्षेत्र के टॉप प्लेयर्स के बारे में भी और विस्तृत जानकारी लेंगे। 

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस वास्तव में क्या है?

सरल शब्दों में, 'आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) कंप्यूटर साइंस की एक ब्रांच है, जो ऐसे स्मार्ट मशीनों का निर्माण करती है जिनमें आमतौर पर मानवीय बुद्धि की आवश्यकता होती है'। हम व्यापक डेटा से वर्गीकरण, विश्लेषण और फ्यूचर प्रिडिक्शन करने के लिए एल्गोरिदम (नियमों का एक सेट) बना सकते हैं। इस प्रकार, स्मार्ट मशीनें डेटा से नया कुछ सीख सकती हैं, उस पर काम कर सकती हैं और हमारे व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में समस्याओं को कुशलता से हल कर सकती हैं। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एक्यूरेसी और परफेक्शन के साथ बहुत तेज गति से निर्णय लेने और कार्यों को करने में सक्षम है। यह अनिवार्य रूप से एक ऐसी दुनिया का निर्माण कर रहा है, जहां मानवीय हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं है।

इस बीच, मशीन लर्निंग (Machine Learning) आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का एक भाग है जिसमें सिस्टम पैटर्न की पहचान कर सकते हैं और उन्हें उपलब्ध कराए गए डेटा का विश्लेषण करके उन्हें लिंक कर सकते हैं। कई इंटरप्राइजेज कस्टमर का बेहेवियर और ऑपरेशनल बिज़नेस पैटर्न को ट्रैक करने और समझने के लिए मशीन लर्निंग का उपयोग करते हैं।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस अब गाड़िया चला सकता है, कैंसर कोशिकाओं का पता लगा सकता है, चेहरे की पहचान में मदद कर सकता है और यहां तक ​​कि वित्तीय निर्णय भी ले सकता है! कानून प्रवर्तन एजेंसियां(Law enforcement agencies) ​​और कोर्ट सिस्टम आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग करते हैं। समय और लागत बचाने के लिए क्लेरिकल वर्क, चालान-प्रक्रिया और मैनेजमेंट रिपोर्टिंग जैसे दोहराव वाले कार्यों को स्वचालित किया जा सकता है। कई कारखाने उत्पादकता बढ़ाने और एक्यूरेसी में सुधार के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस -संचालित रोबोट का उपयोग करते हैं। आपको इसका एहसास भी नहीं हो सकता है, लेकिन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस हर जगह पाया जा सकता है: आपके उपकरणों पर गूगल असिस्टेंट(Google Assistant) और सिरी(Siri), कन्वर्सेशनल बॉट, ईमेल स्पैम फ़िल्टर, रेस्तरां या ओटीटी मूवी रेकमेंडेशन्स इत्यादि।

अब, आइए भारत में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्रांति का नेतृत्व करने वाली टॉप पांच कंपनियों पर नज़र डालें:

टाटा एलेक्सी लिमिटेड (Tata Elxsi Ltd) 

टाटा एलेक्सी लिमिटेड एक ऐसी कंपनी है जो ज्यादातर निवेशकों के रडार पर चली जाती है। यह दुनिया में डिजाइन और टेक्नोलॉजी सर्विसेज के लीडिंग प्रोवाइडर्स में से एक है। इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT), क्लाउड, मोबिलिटी, वर्चुअल रियलिटी और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसी डिजिटल टेक्नोलॉजी की मदद से टाटा एलेक्सी लिमिटेड अपने ग्राहकों के लिए स्मार्ट प्रोडक्ट्स और सर्विसेज विकसित करती है। इन सभी ऍप्लिकेशन्स का भविष्य में बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाएगा, क्योंकि दुनिया आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और डेटा एनालिटिक्स की ओर तेज़ी से बढ़ रही है।

बेंगलुरु स्थित फर्म ऑटोमोटिव, होम एप्लायंसेज, सेमीकंडक्टर, मीडिया, ब्रॉडकास्ट, कम्युनिकेशन, रेल और स्वास्थ्य सेवा उद्योगों में काम करती है। इसे सेल्फ-ड्राइविंग कारों, वीडियो एनालिटिक्स सॉल्यूशंस और हेल्थकेयर मॉनिटरिंग के क्षेत्र में काफी पहचान मिली है। वर्तमान के प्रभावशाली युग में, टाटा एलेक्सी ने कंटेंट क्यूरेशन, मॉडरेशन, ट्रैंड के अंडरस्टैंडिंग और ऐड के इंसर्शन रेकमेंडेशन के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सलूशन प्रदान किए हैं।

टाटा एलेक्सी का आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (AI CoE) इंटेलिजेंट सिस्टम की बढ़ती जरूरतों से संबंधित है। 

L&T टेक्नोलॉजी सर्विसेज लिमिटेड(L&T Technology Services Ltd)

L&T टेक्नोलॉजी सर्विसेज (LTTS) भारत, उत्तरी अमेरिका और यूरोप में इंजीनियरिंग, रिसर्च और डेवलपमेंट सर्विसेज प्रदान करती है। कंपनी कई उद्योगों में कारखानों / संयंत्रों के लिए ऑटोमेशन और प्रक्रिया नियंत्रण प्रणाली बनाती है। इसके अलावा, यह क्लाउड, इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT), आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI), और डेटा एनालिटिक्स सर्विसेज भी प्रदान करती है।

पिछले साल, यूएस-आधारित मावेनिर(Mavenir) और NVIDIA ने L&T टेक्नोलॉजी सर्विसेज को उद्योग के पहले कवरेज AI-on-5G को अपनाने में तेजी लाने के लिए चुना था। NVIDIA का AI-on-5G एक ऐसा प्लेटफॉर्म है, जो सभी उद्योगों में एंटरप्राइज के डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन को गति देगा। इस बीच, L&T टेक्नोलॉजी सर्विस ने इंटेल कॉर्पोरेशन के साथ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस-आधारित स्मार्ट पार्किंग सलूशन भी डेवलप किया।

हैप्पीएस्ट माइंड्स टेक्नोलॉजीज लिमिटेड (Happiest Minds Technologies Ltd)

हैप्पीएस्ट माइंड्स टेक्नोलॉजीज बेंगलुरु में स्थित एक प्रमुख IT सोलूशन्स और सर्विस प्रोवाइडर है। वे उद्योगों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, क्लाउड, इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT), ब्लॉकचेन और रोबोटिक्स जैसी सर्विस प्रोवाइड करते हैं। कंपनी टेक्निकल सलूशन प्रोवाइड करने के लिए लैंग्वेज प्रोसेसिंग, इमेज एनालिटिक्स, ऑब्जेक्ट आइडेंटिफिकेशन और वीडियो एनालिटिक्स के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग करती है। हैप्पीएस्ट माइंड्स ऑगमेंटेड रियलिटी (augmented reality) और वर्चुअल रियलिटी (virtual reality) जैसी इमर्जिंग टेक्नोलॉजीज पर भी काम करती है। मिड-कैप IT कंपनी वर्तमान में ऑटोमेशन और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में एक्सपर्टीज रखने वाली फर्मों की अधिग्रहण करने की योजना बना रही है।

साइएंट लिमिटेड (Cyient Ltd)

हैदराबाद स्थित साइएंट एशिया, उत्तरी अमेरिका और यूरोप में आईटी और डेटा एनालिटिक्स सोलूशन्स प्रोवाइड करता है। यह दुनिया की टॉप 30 आउटसोर्सिंग कंपनियों में से एक है। वे मुख्य रूप से रिमोट सेंसिंग, नेविगेशनल डेटा मैपिंग और अन्य स्थान-आधारित सेवाओं के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का विकास और उपयोग करते हैं।

एम्फैसिस लिमिटेड (Mphasis Ltd)

एम्फैसिस एक इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी प्रोवाइडर है, जो दुनिया भर में क्लाउड-आधारित आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सेवाओं में माहिर है। यह ब्लॉकचेन, बिजनेस प्रोसेस, एंटरप्राइज ऑटोमेशन, डिजाइन, इंफ्रास्ट्रक्चर और क्लाउड सर्विस प्रोवाइड करता है। जुलाई 2021 में, यूनाइटेड स्टेट्स पेटेंट एंड ट्रेडमार्क ऑफिस (United States Patent and Trademark Office) ने एम्फैसिस को अपने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस-संचालित एप्लिकेशन और इंफ्रास्ट्रक्चर मैनेजमेंट सॉल्यूशन के लिए पेटेंट से सम्मानित किया। यह किसी भी एप्लिकेशन की त्रुटियों और विफलताओं की जानकारी देता है और निवारक रखरखाव उपायों को सक्षम बनाता है। कंपनी का लक्ष्य आने वाले वर्षों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस/मशीन लर्निंग  इनोवेशन के अपने पोर्टफोलियो का विस्तार करना भी है।

निष्कर्ष

अपनी वास्तविक क्षमता का एहसास करने के बाद, भारतीय एंटरप्राइज लागत कम करने और ग्राहक प्रतिधारण में सुधार के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सोलूशन्स में भारी निवेश कर रहे हैं। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और रोबोटिक्स उद्योग में अन्य महत्वपूर्ण कंपनियों में Zensar Technologies Ltd,  Persistent Systems Ltd, Tata Consultancy Services, और Affle India Ltd  शामिल हैं। इंटरनेशनल डेटा कॉरपोरेशन (International Data Corporation) की एक रिसर्च रिपोर्ट में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर सेवाओं के लिए भारतीय बाजार 20.2% की CAGR से बढ़कर 7.8 बिलियन डॉलर होने का अनुमान लगाया गया है! भारतीय ऑर्गनाइजेशन कस्टमर सपोर्ट, IT ऑटोमेशन, सिक्योरिटी, सप्लाई चैन मैनेजमेंट और कई और चीजों के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का प्रभावी रूप से उपयोग करने की योजना बना रहे हैं।

यदि सही और नैतिक रूप से विकसित किया जाए, तो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस समाज की तरक्की में महत्वपूर्ण योगदान दे सकता है।

भारत में विकसित हो रहे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस इंडस्ट्री पर आपके क्या विचार हैं? मार्केटफीड ऐप के कमेंट सेक्शन में हमें अपने विचार बताएं!

HoneyKomb by Bhive, 3/B, 19th Main Road, HSR Sector 3
Bengaluru, Bengaluru Urban
Karnataka, 560102

linkedIn
twitter
instagram
youtube