NDTV: अदानी का अब तक का सबसे मुश्किल टेकओवर

पिछले महीने, अदानी समूह ने एक आश्चर्यजनक घोषणा की : यह अप्रत्यक्ष रूप से न्यू दिल्ली टेलीविजन लिमिटेड (NDTV) में 29.18% हिस्सेदारी का टेकओवर करेगा! वे समाचार मीडिया कंपनी में अतिरिक्त 26% हिस्सेदारी हासिल करने के लिए एक 'ओपन ऑफर' भी लॉन्च करेंगे। हालाँकि, कई लोग इसे शत्रुतापूर्ण अधिग्रहण मानते हैं, क्योंकि NDTV का दावा है कि इस मामले में कोई चर्चा या सहमति नहीं हुई थी।

इस लेख में, हम उन घटनाओं की टाइमलाइन पर चर्चा करेंगे जिनके कारण अदानी समूह ने NDTV को अपने हाथ में लेने का आक्रामक प्रस्ताव रखा।

कहानी…

  • NDTV को एक लेगसी ब्रांड के रूप में माना जाता है, जिसने भारत में स्वतंत्र समाचार प्रसारण का बीड़ा उठाया है। इसे देश का पहला 24x7 न्यूज और लाइफस्टाइल चैनल लॉन्च करने का श्रेय दिया जाता है। 2005 में, निजी इक्विटी फर्म जनरल अटलांटिक (General Atlantic - GA) ग्लोबल इन्वेस्टमेंट्स ने एक ब्लॉक डील में ₹116 करोड़ से NDTV में 8% माइनॉरिटी स्टेक का अधिग्रहण किया।
  • NDTV के प्रमोटर्स, प्रणय रॉय और राधिका रॉय ने कंपनी के मौजूदा इन्वेस्टर्स से शेयर वापस खरीदने की पेशकश की। उनकी प्रारंभिक योजना GA ग्लोबल इन्वेस्टमेंट्स से 7.73% हिस्सेदारी हासिल करने की थी। हालांकि, इस प्रस्ताव ने NDTV के अन्य माइनॉरिटी शेयरहोल्डर्स के लिए एक ओपन ऑफर शुरू किया। 

ओपन ऑफर क्या है?

मान लीजिए, कि आप किसी कंपनी में माइनॉरिटी शेयरहोल्डर हैं। यदि आपको लगता है, कि ओनरशिप स्ट्रक्चर में बदलाव कंपनी के भविष्य को नुकसान पहुंचा सकता है, तो आपको इन्वेस्टमेंट से बाहर निकलने का अधिकार है। इस प्रकार, भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (Securities & Exchange Board of India) प्रमोटर्स/इन्वेस्टर्स  से माइनॉरिटी शेयरहोल्डर्स को एक एडिशनल ओपन ऑफर करने के लिए कहता है, जब वे किसी कंपनी में चुनिंदा इन्वेस्टर्स से एक बड़ी हिस्सेदारी हासिल करते हैं। ओपन ऑफर आपको अपने शेयरों को एक निश्चित कीमत पर बेचने और इन्वेस्टमेंट से बाहर होने की अनुमति देगा।

  • कहानी पर वापस आते हुए, प्रणय और राधिका रॉय के पास शेयर वापस खरीदने के लिए पैसे नहीं थे। इसलिए उन्होंने RRPR होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड नामक एक फर्म की स्थापना की, जिसने NDTV शेयरों को कोलैटरल के रूप में गिरवी रखकर इंडियाबुल्स फाइनेंशियल सर्विसेज से लगभग 540 करोड़ रुपये उधार लिए।
  • दुर्भाग्य से, 2008 के ग्लोबल फाइनेंशियल क्राइसिस के कारण उनकी योजनाएं असफ़ल हुई। NDTV के शेयर गिरावट का शिकार हो गए, और लोन को सपोर्ट करने वाले कोलैटरल ने अपना अधिकांश मूल्य खो दिया।
  • उसी वर्ष, प्रमोटरों ने इंडियाबुल्स फाइनेंशियल सर्विसेज को चुकाने के लिए ICICI बैंक से ₹375 करोड़ का एक और लोन लिया। इस लोन पर 19% की ब्याज दर थी!
  • आर्थिक मंदी के बाद, ICICI बैंक ने ₹350 करोड़ पर लोन का निपटान किया। यह राशि विश्वप्रधान कमर्शियल प्राइवेट लिमिटेड (Vishvapradhan Commercial Pvt Ltd - VCPL) से इंट्रेस्ट फ्री बेसिस पर लिए गए लोन RRPR होल्डिंग के माध्यम से फंड किया गया था। बदले में, RRPR को VCPL को कनवर्टिबल वारंट ऑफर करना पड़ा

कन्वर्टिबल वारंट क्या होते हैं?

कनवर्टिबल वारंट फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट हैं, जो आपको कुछ शर्तों को पूरा करने पर कंपनी के शेयरों को एक निश्चित कीमत पर खरीदने की अनुमति देता है।

  • लोन एग्रीमेंट के अनुसार, RRPR को VCPL को कनवर्टिबल वारंट जारी करना था जो एक्सरसाइज के समय अपनी शेयर कैपिटल के 99.99% का प्रतिनिधित्व करता हैं। इस प्रकार, VCPL अनिवार्य रूप से RRPR होल्डिंग (NDTV की एक प्रमोटर एंटिटी) में 99.99% हिस्सेदारी रखेगा।
  • हताश परिस्थितियों के कारण, प्रणय रॉय और राधिका रॉय ने VCPL से कहा कि वे वारंट के रूप में NDTV(~ 29%) में RRPR की पूरी हिस्सेदारी सौंप देंगे।

यही से बातें दिलचस्प हो गई है…

  • VCPL की स्थापना 2008 में हुई थी। उन्होंने जो एकमात्र प्रमुख लेन-देन किया था, वह NDTV के प्रमोटरों को दिया गया लोन था! 2009 में, VCPL को शिनानो रिटेल प्राइवेट लिमिटेड (Shinano Retail Pvt. Ltd.) से एक अनसिक्योर्ड लोन के रूप में ₹403.85 करोड़ प्राप्त हुए इस बीच, शिनानो ने रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (Reliance Industries Ltd ) के ओनरशिप वाली विभिन्न सहायक कंपनियों से समान राशि प्राप्त की! तो रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की NDTV में भी धूर्तता से अप्रत्यक्ष रूप से हिस्सेदारी थी!
  • 2012 में, एमिनेंट नेटवर्क्स (Eminent Networks) नामक एक फर्म ने VCPL द्वारा शिनानो रिटेल से लिए गए लोन का ओनरशिप प्राप्त किया। इस फर्म का ओनरशिप Reliance Jio Infocomm के बोर्ड सदस्य महेंद्र नाहटा के पास था! 2012 में कंपनी के बयानों के अनुसार, VCPL के नए मालिक नेक्स्टवेव टेलीवेंचर(NextWave Televenture) और स्काईब्लू बिल्डवेल (Skyblue Buildwell) थे, और ये दोनों कंपनियां नाहटा से जुड़ी थीं।

रीसेंट डेवलपमेंट 

  • 23 अगस्त, 2022 को, अदानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड की ओनरशिप वाली सहायक कंपनी AMG मीडिया नेटवर्क्स लिमिटेड ने ₹113.74 करोड़ में VCPL का अधिग्रहण किया। दिलचस्प बात यह है कि AMG मीडिया नेटवर्क्स ने NDTV के 29.18% ओनरशिप के लिए VCPL के ओनरशिप वाले वारंट का प्रयोग करना शुरू कर दिया! अदानी समूह की एक और व्यवहारकुशल चाल!
  • चूंकि NDTV में इसकी हिस्सेदारी 26% से अधिक है, AMG मीडिया नेटवर्क्स लिमिटेड ने NDTV में अतिरिक्त 25% हिस्सेदारी के लिए ₹294 प्रति शेयर की छूट पर एक खुला प्रस्ताव जारी करने के लिए बाध्य है। यह ऑफर 17 अक्टूबर से 1 नवंबर के बीच लॉन्च किया जाएगा।
  • इस बीच, प्रणय रॉय और राधिका रॉय (प्रमोटर्स) के पास अभी भी NDTV में 32.26% हिस्सेदारी है, जो RRPR का हिस्सा नहीं था। उन्होंने हाल ही में एक बयान जारी कर कहा था, कि अदानी समूह ने टेकओवर के लिए उनकी सहमति नहीं मांगी थी। अब, NDTV और रॉय अदानी के टेकओवर के खिलाफ लड़ रहे हैं।

स्टॉक एक्सचेंजों को लिखे एक पत्र में, NDTV ने उल्लेख किया कि रॉय को 2020 में इनसाइडर ट्रेडिंग का दोषी पाया गया था, और उन्हें फाइनेंशियल सिक्युरिटीज में लेनदेन करने से प्रतिबंधित कर दिया गया था। 26 नवंबर, 2022 तक प्रतिबंध हटा लिया जाएगा। इसलिए NDTV का मानना ​​​​है, कि VCPL केवल प्रतिबंध को हटाकर अपने शेयरों का टेकओवर कर सकता है। वास्तव में, यह एक बहुत ही कॉम्प्लिकेटेड सिचुएशन है!

अदानी समूह के NDTV के रणनीतिक टेकओवर पर आपके क्या विचार हैं? हमें मार्केटफीड ऐप के कमेंट सेक्शन में बताएं!

HoneyKomb by Bhive, 3/B, 19th Main Road, HSR Sector 3
Bengaluru, Bengaluru Urban
Karnataka, 560102

linkedIn
twitter
instagram
youtube